North Korea: चीन के दोस्‍त Kim Jong Un को साधने में जुटा भारत, राष्‍ट्रपति ने भेजा संदेश

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • भारत अब उत्‍तर कोरिया के सैन्‍य तानाशाह क‍िम जोंग उन को साधने में जुट गया है
  • भारत के राष्‍ट्रपति ने उत्‍तर कोरिया के 72 वें स्‍थापना दिवस पर बधाई संदेश भेजा है
  • इस पत्र को भारत के उत्‍तर कोरिया में राजदूत ने उत्‍तर कोरिया के उप विदेश मंत्री को सौंपा

प्‍योंगयांग
लद्दाख में चीन से चल रहे तनाव के बीच भारत अब ड्रैगन के करीबी मित्र और उत्‍तर कोरिया के सैन्‍य तानाशाह क‍िम जोंग उन को साधने में जुट गया है। भारत के राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविद ने उत्‍तर कोरिया के 72 वें स्‍थापना दिवस पर बधाई संदेश भेजा है। राष्‍ट्रपति कोविद ने यह पत्र किम जोंग उन को लिखा है। इस पत्र को भारत के उत्‍तर कोरिया में राजदूत अतुल एम गोतसर्वे ने उत्‍तर कोरिया के उप विदेश मंत्री को सौंपा।

इससे पहले भारत के राजदूत ने किम जोंग उन को बधाई संदेश दिया था जो देश में चर्चा का विषय बन गया था। भारतीय राजदूत के संदेश को न केवल उत्‍तर कोरिया के सरकारी अखबार में जगह दी गई बल्कि टीवी पर भी उसका प्रसारण किया गया। बताया जा रहा है कि दुनिया से कटे उत्‍तर कोरिया में ऐसा बहुत कम होता है कि किसी विदेशी राजनयिक के संदेश को इतनी तवज्‍जो दी गई हो।

भारतीय राजदूत के संदेश को पढ़ा गया
बताया जा रहा है कि उत्‍तर कोरिया के सरकारी टीवी चैनल नैशनल टेलीव‍िजन ऑफ नॉर्थ कोरिया पर प्राइम टाइम में न केवल भारत का जिक्र हुआ बल्कि भारतीय राजदूत के संदेश को पढ़ा गया। भारतीय राजदूत अतुल एम गोतसर्वे ने किम जोंग उन को मार्शल बनाए जाने के 8 साल पूरे होने पर उन्‍हें बधाई संदेश भेजा था। साथ ही फूलों का गुलदस्‍ता भेजा था। इस पर किम जोंग उन के स्‍वस्‍थ रहने की कामना की गई थी।

यही नहीं भारतीय राजदूत के बधाई संदेश को उत्‍तर कोरिया के सरकारी अखबार रोडोंग स‍िनमुन में भी प्रमुखता से प्रकाशित किया गया। यह अखबार उत्‍तर कोरिया के आधिकारिक दृष्टिकोण को दर्शाता है। बता दें कि कोरियाई प्रायद्वीप में शांति की स्‍थापना के लिए भारत ने लंबे समय से बहुत महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरियाई युद्ध के समय भारत के एंबुलेंस यूनिट ने दो लाख 20 हजार लोगों का इलाज किया था।


नॉर्थ कोरिया को 10 लाख डॉलर की मेडिकल सहायता
इससे पहले भारत ने कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए नॉर्थ कोरिया को 10 लाख डॉलर की मेडिकल सहायता भेजी थी। ऐसा वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन से मिले अनुरोध के बाद किया गया था। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत, उत्तर कोरिया में मेडिकल उपकरणों/सामग्री की कमी और वहां के हालात के प्रति संवेदनशील है और उसने टीबी की दवा के रूप में 10 लाख डॉलर की मानवीय सहायता प्रदान करने का फैसला लिया। बता दें कि नॉर्थ कोरिया चीन का करीबी है और चीन से हमारे रिश्ते इस वक्त कैसे चल रहे हैं वह किसी से छिपा नहीं है।

kim jong un

किम जोंग उन को साधने में जुटा भारत



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *