PM Cares Fund को लेकर लोकसभा में जमकर हंगामा, अनुराग ठाकुर से माफी मंगवाने पर अड़ा विपक्ष

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • लोकसभा में पीएम केयर्स फंड पर चर्चा के दौरान कांग्रेस और बीजेपी सांसदों का हंगामा
  • आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद कांग्रेस पर भड़के बीजेपी के सांसद, स्पीकर ने स्थगित की कार्रवाई
  • दो बार स्थगित की गई सदन की कार्रवाई, हंगामे के बीच अनुराग ठाकुर ने पीएम केयर फंड पर दिया जवाब

नई दिल्ली
संसद के सत्र के दौरान लोकसभा (Loksbha News) में शुक्रवार को नेता विपक्ष अधीर रंजन चौधरी का एक बयान विवाद की वजह बन गया। अधीर रंजन चौधरी ने पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) पर हो रही चर्चा के दौरान केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर पर एक विवादित टिप्पणी कर दी। इस टिप्पणी को लेकर लोकसभा में बीजेपी और उसके समर्थक दलों के सांसदों ने जमकर हंगामा किया। वहीं कांग्रेस के लोगों ने सदन में अनुराग ठाकुर की ओर से कठोर भाषा का इस्तेमाल करने को लेकर बीजेपी की आलोचना की। मामला इतना बढ़ गया कि लोकसभा स्पीकर ने सदन की कार्रवाई को 3 बार स्थगित किया। बाद में 5 बजे जब सदन की कार्रवाई फिर शुरू हुई तो विपक्षी सांसदों ने अनुराग ठाकुर से माफी मांगने की मांग की और इसपर अड़े रहे। इस बीच, अनुराग ठाकुर ने सदन में कहा कि उनका किसी की भावनाओं को आहत करने का कोई इरादा नहीं था। अगर किसी को ठेस पहुंची है तो उन्‍हें इस बात की पीड़ा है।

जवाब देने के बजाय दे रहे राजनीतिक भाषण: थरूर
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद शशि थरूर ने कहा कि सदन में जब मंत्री एक नया विधेयक लेकर आए और उसमें कोई आपत्ति हो तो हम इंट्रोडक्शन का विरोध कर सकते हैं। टैक्सेशन बिल में 2-3 कठिनाई हैं, जो हमने बताई। अनुराग ठाकुर ने जवाब देने की बजाय राजनीतिक भाषण दिया। नेहरू जी, सोनिया गांधी जी का ज़िक्र करके सदन में शोर मचाया। अनुराग ठाकुर ने जो आरोप लगाए, जिस कठोर भाषा में बात की। इसपर विपक्ष ने कहा कि माफी मांगो। इसके बाद 2 बार हाउस स्थगित हो गया है, परन्तु वो माफी नहीं मांग रहे।

कृषि विधेयकों पर राजनीति कर रही कांग्रेस? ‘कांग्रेसी’ ने ही खोल दी पोल

पीएम केयर्स फंड पर जवाब देने आए थे अनुराग
शुक्रवार को सदन में पीएम केयर्स फंड पर अनुराग ठाकुर बयान देने के लिए खड़े हुए थे। इस दौरान उन्होंने गांधी परिवार पर कटाक्ष करने के लिए कुछ बातें कहीं। अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में उन नामों का जिक्र करने की धमकी दी और कहा कि वह वो नाम बता सकते हैं जिन्हें पीएम राष्ट्रीय राहत कोष के जरिए फायदा मिला था। नेहरूजी ने रजवाडों की तरह 1948 में पीएम नैशनल रिलीफ फंड बनाने का आदेश दिया था, लेकिन इसका रजिस्ट्रेशन आज तक नहीं हुआ है। इसे FCRA क्लियरेंस कैसे मिला।

विपक्ष की नीयत पर उठाए सवाल
विपक्ष पर निशाना साधते हुए ठाकुर ने कहा कि सच्चाई यह है कि विपक्ष की नीयत खराब है। इसलिए उन्हें अच्छा काम भी खराब नजर आता है। पीएम केयर्स फंड का जिक्र करते हुए ठाकुर ने कहा कि इस विषय पर ये (विपक्ष) अदालत में चले गए, लेकिन अदालत ने इनकी बातों को खारिज कर दिया। ठाकुर ने कहा कि एक तरफ देश कोरोना महामारी से लड़ने की तैयारी कर रहा था और प्रधानमंत्री अनेक कदम उठा रहे थे तब विपक्ष के लोग राजनीति कर रहे थे । उन्होंने कहा कि पीएम केयर्स फंड में गरीबों से लेकर अमीरों, सांसदों, विधयकों, छोटे छोटे बच्चों, सेवानिवृत शिक्षकों, बुजुर्गो, स्वतंत्रता सेनानियों आदि ने अपनी जमा पूंजी महामारी से लड़ने के लिये दी है, लेकिन विपक्ष विरोध करके इन लोगों का भी अपमान कर रहा है।

विपक्ष कर रहा बेवजह विरोध: अनुराग ठाकुर
अनुराग ने भाषण में आगे कहा कि विपक्ष के लोग सिर्फ विरोध के लिए पीएम केयर्स फंड के खिलाफ बोल रहे हैं। ऐसे ही ये ईवीएम, जीएसटी और ट्रिपल तलाक कानून और सभी चीजों को गलत बताते रहे और कई चुनाव हारते रहे। वहीं चर्चा के दौरान ही अधीर रंजन चौधरी ने अनुराग ठाकुर पर तंज कसते हुए एक विवादित टिप्पणी कर दी। इसे लेकर भी बीजेपी के सदस्यों ने जमकर हंगामा किया।

स्पीकर पर TMC ने लगाया आरोप
इस बीच लोकसभा स्पीकर ने सदस्यों को समझाने की कोशिश की तो टीएमसी और कांग्रेस ने उनपर पक्षपात करने का आरोप भी लगाया। तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने स्पीकर से कहा कि चाहे तो वो उन्हें लोकसभा से सस्पेंड ही कर दें, पर वह बीजेपी सांसदों का व्यवहार सहन नहीं करेंगे। बाद में हंगामे के चलते सदन की कार्रवाई पहले आधे घंटे और फिर शाम 5 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *