Quad Meet 2020 LIVE: जमीन से लेकर पानी तक, कैसे पार हो चीन की चुनौती? जापान में Quad देशों की बैठक

Spread the love


टोक्यो
भारत के साथ पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद हो या जापान के साथ ईस्ट चाइना सी, ऑस्ट्रेलिया के साथ कोरोना पर टकराव हो या अमेरिका के साथ वैश्विक प्रभुत्व की प्रतिद्वंदिता, चीन ने न जाने कितने देशों की नाक में दम कर रहा है। अब ये चार बड़े देश एकसाथ आए हैं ताकि चीन को धता बताई जा सके। इसके लिए जापान की राजधानी टोक्यो में मंगलावर को Quad देशों भारत-ऑस्‍ट्रेलिया-अमेरिका-जापान के विदेश मंत्री ‘द क्वॉड्रिलैटरल सिक्‍यॉरिटी डायलॉग’ (Quad) के तहत आज मुलाकात करने जा रहे हैं।

भारत के विदेश मंत्री डॉ. एसजयशंकर ने ट्वीट कर बैठक के बारे में जानकारी दी। उन्होंने लिखा कि बैठक के दौरान एक-दूसरे के साथ संबंधों के द्विपक्षीय और वैश्विक आयाम पर चर्चा की गई। इस बैठक में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ भी शामिल हुए हैं। अमेरिका के गृह विभाग ने कुछ दिन पहले ही बयान जारी कर अरुणाचल प्रदेश को भारत का हिस्सा बताया था।

चीन से जुड़े मुद्दों पर चर्चा
क्‍वॉड की बैठक से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि इसमें 5G कनेक्‍टविटी, साइबर सिक्‍यॉरिटी, मैनुफैक्‍चर‍िंग सेक्‍टर के लिए एक सप्‍लाई चेन, समुद्र नौवहन के क्षेत्र में सहयोग, इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर और कनेक्‍टव‍िटी के मुद्दे पर चर्चा होगी। यही नहीं, इसमें दक्षिण और पूर्वी चीन सागर, लद्दाख में 6 महीने से चल रहा गतिरोध, हॉन्‍ग कॉन्‍ग और ताइवान के मुद्दे पर चर्चा की जाएगी।

ड्रैगन को जमीन से लेकर समुद्र तक घेरने की तैयारी, आज म‍िल रहे Quad देश तो भड़का चीन

इन मुद्दों पर भी होगी चर्चा
इसके अलावा कोविड-19 वैक्‍सीन के वितरण के लिए एक अग्रिम योजना समेत उन सभी क्षेत्रों पर चर्चा होगी जहां पर चीन का विकल्‍प मुहैया कराया जा सके। साथ ही, चारों देशों के नेता अंडमान सागर के पास नवंबर में होने वाले मालाबार नौसैनिक अभ्‍यास में ऑस्‍ट्रेलिया को शामिल करने पर चर्चा करेंगे। हालांकि इसमें अभी ऑस्‍ट्रेलिया को शामिल करने पर कोई फैसला नहीं हुआ है। ऑस्‍ट्रेलिया के शामिल होने की घोषणा भारत का रक्षा मंत्रालय करेगा। माना जा रहा है कि मालाबार अभ्‍यास से ‘एशियाई नाटो’ बनाने का रास्‍ता साफ हो सकता है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *