US: डोनाल्ड ट्रंप Nobel Peace Prize के लिए नामित, इजरायल-UAE में कराया था शांति समझौता

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित
  • UAE और इजरायल के बीच मध्यस्थता कर शांति समझौता कराया था
  • दोनों देश 72 साल बाद आए थे साथ, शुरू हुआ व्यावसायिक संबंध

वॉशिंगटन
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को नोबेल के शांति पुरस्कार (Nobel Peace Prize) के लिए नामित किया गया है। नॉर्वे के सांसद ने ट्रंप को इजरायल और संयुक्त अरब अमीरात के बीच ऐतिहासिक शांति समझौता कराने के लिए नामित किया है। ट्रंप की मध्‍यस्‍थता के बाद ही इजरायल और यूएई ने शांति समझौते पर हस्‍ताक्षर किया था और 72 साल बाद दोनों के बीच टकराव खत्म हुआ था। अब 15 सितंबर को वाइट हाउस में ही इसका औपचारिक समारोह आयोजित करेंगे।

ट्रंप से बातचीत के बाद हुआ समझौता
इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात ने 13 अगस्त को घोषणा की थी कि वे अमेरिका की मध्यस्थता से हुए समझौते के तहत पूर्ण कूटनीतिक संबंधों को स्थापित कर रहे हैं। पिछले महीने इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, अबुधाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद और डोनाल्ड ट्रंप के बीच फोन पर चर्चा हुई जिसके बाद इस समझौते की मंजूरी दी गई। इस फैसले के बाद अमेरिका ने कहा था कि यह ऐतिहासिक कूटनीतिक सफलता मध्य पूर्व क्षेत्र में शांति को आगे बढ़ाएगी।

कई मुद्दों पर साथ काम करेंगे दोनों देश
इस समझौते के तहत इजराइल को पश्चिम तट के कुछ हिस्सों को अपने अधिकार क्षेत्र में मिलाने की अपनी योजना पर रोक लगानी है। इजरायल और संयुक्त अरब अमीरात के बीच निवेश, पर्यटन, सीधी उड़ान, सुरक्षा, दूरसंचार और अन्य मुद्दों पर द्विपक्षीय समझौते करने का फैसला किया गया। दोनों देशों के बीच पहला व्यावसायिक विमान भी उड़ा।

समझौते से भारत को फायदा
भारत के अरब देशों और इजरायल दोनों ही देशों से अच्‍छे संबंध है। भारत का ज्‍यादातर तेल अरब से ही आता है। भारत चाहता है कि सऊदी अरब और यूएई में शांति रहे। यूएई की तरह से सऊदी अरब भी भविष्‍य में डील कर सकता है। अगर सऊदी अरब पाकिस्‍तान से हटता है तो यह भारत के लिए खुशखबरी है। इससे भारत को आर्थिक और रणनीतिक दोनों ही फायदा होगा। सऊदी अरब में भारत का भी प्रभाव और बढ़ सकता है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *