War with Covid-19: पीएम की मिली हरी झंडी, कोरोना से लड़ने के लिए इस जरूरी चीज का होगा आयात

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • अब इस प्रस्ताव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी हरी झंडी मिल गई है
  • देश में कोविड-19 पीड़ित मरीजों के इलाज में ऑक्सीजन की जो कमी कही हो रही है, उसे पूरा करने के लिए इसका आयात किया जाएगा
  • देश भर में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं हो, इसके लिए आज पीएम मोदी ने एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया
  • इसमें केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्वोग मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री, इस्पात मंत्री भी शामिल हुए

नई दिल्ली
अब इस प्रस्ताव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की भी हरी झंडी मिल गई है। देश में कोविड-19 पीड़ित मरीजों के इलाज में ऑक्सीजन (Oxygen) की जो कमी कही हो रही है, उसे पूरा करने के लिए इसका आयात (Import of Oxygen) किया जाएगा। देश भर में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं हो, इसके लिए आज पीएम मोदी ने एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया। इसमें केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री, इस्पात मंत्री भी शामिल हुए।

होगी ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) से जुड़े एक वरिष्ठ आधिकारिक सूत्र ने बताया कि प्रधानमंत्री ने बैठक में निर्देश दिया कि देश के किसी भी राज्य में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति के हर संभव उपाय किए जाएं। यदि घरेलू उत्पादकों से ऑक्सीजन की मांग पूरी नहीं होती है तो इसका आयात भी किया जाए।
बैठक में बताया गया कि इस समय देश के 12 राज्यों महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में ऑक्सीजन की ज्यादा मांग है। अधिकारियों ने बताया कि देश में आगामी 20 अप्रैल को 4880 टन, 25 अप्रैल को 5619 टन और 30 अप्रैल को 6593 टन तक आक्सीजन की डिमांड हो सकती है। इसी हिसाब से तैयारी चल रही है। पहले तो मांग को पूरी करने के लिए देशी उत्पादकों से आक्सीजन लिया जाएगा। यदि इसमें कमी होगी तो फिर विदेशों से आवश्यकता पूरी की जाएगी।

Sachin Bansal apply for Banking Licence: पहले सचिन बंसल ने 4 लाख के स्टार्टअप को 20 अरब डॉलर का बनाया, अब बैंक खोलने की तैयारी!

24 घंटे चलेंगे सिलेंंडर फिलिंग प्लांट
प्रधानमंत्री कार्यालय के अधिकारी ने बताया कि राज्य एवं केंद्र सरकार मिल कर ऑक्सीजन के 24 घंटे निर्माण की सभी बाधांए दूर कर दी गई हैं। साथ ही सिलेंडर फिलिंग प्लांट को भी 24 घंटे चलाने का निर्देश् दिया गया है। यहां तक कि इंडस्ट्रियल सिलेंडर के मेडिकल उपयोग की भी अनमति है, लेकिन उसके पहले उसके प्योरिफिकेशन पर ध्यान देना होगा।

कल ही इम्पावर्ड ग्रुप 2 ने लिया था 50 हजार टन ऑक्सीजन के आयात का फैसला
इम्पावर्ड ग्रुप 2 ने कल की बैठक में ही ऑक्सीजन की सबसे ज्यादा मांग वाले 12 राज्यों की मैपिंग की बात कही थी। साथ ही 50,000 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन का आयात करने का फैसला किया गया था।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *