West Bengal Chunav: जानिए कौन हैं पीएम मोदी को चैंलेज करने वाले ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • TMC में नंबर दो की हैसियत रखते हैं अभिषेक बनर्जी
  • सीएम ममता बनर्जी के भतीजे हैं अभिषेक, दो बार सांसद
  • प्रशांत किशोर से तालमेल की वजह से कई सीनियर नेता नाराज

कोलकाता
पश्चिम बंगाल में चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है। राज्य में विधानसभा चुनावों का समय नजदीक आने के साथ ही राजनीतिक बयानबाजी भी जोर पकड़ने लगी है। तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही चैंलेज कर दिया है। अभिषेक ने कहा कि पीएम सहित बीजेपी के किसी भी नेता में उन पर नाम लेकर आरोप लगाने का साहस नहीं है।

टीएमसी के टिकट पर लगातार दूसरी बार सांसद चुने गए अभिषेक बनर्जी डायमंड हार्बर और दक्षिण 24 परगना सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह टीएमसी प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे हैं और अभी पार्टी में नंबर दो की हैसियत रखते हैं। अभिषेक पार्टी की छात्र इकाई ऑल इंडिया तृणमूल यूथ कांग्रेस (AITYC) के अध्यक्ष भी हैं।

2011 में हुआ राजनीतिक पर्दापण
7 नवंबर 1987 को कोलकाता में जन्मे अभिषेक की शुरुआती शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल से ही हुई। इसके बाद उन्होंने दिल्ली से मैनेजमेंट की पढ़ाई की। 2012 में उनकी शादी रुजिरा बनर्जी से हो गई, जिनके दो बच्चे भी हैं। 2011 में ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में ऐतिहासिक जीत दर्ज करते हुए 34 साल के कम्युनिस्ट शासन को मात दी थी। अभिषेक ने उसी साल TMC की युवा इकाई का पदभार संभाला था। यह राजनीति में उनकी आधिकारिक एंट्री थी।

PK संग जोड़ी से दिग्गज नाराज
33 साल के अभिषेक, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी के भाई अमित बनर्जी के बेटे हैं। चुनाव से पहले टीएमसी में अंदरूनी कलह भी जोर पकड़ रही है। पार्टी के कई सीनियर नेताओं में जिन दो लोगों को लेकर नाराजगी है, उनमें एक अभिषेक बनर्जी भी हैं। दूसरा नाम चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर का है। टीएमसी के एक धड़े का मानना है कि ममता ने अपने भतीजे को बतौर उत्तराधिकारी पेश कर दिग्गज नेताओं की अनदेखी कर रही हैं।

शुभेंदु अधिकारी, मिहिर गोस्वामी, सिद्धिकुला चौधरी, नियामत शेख सहित पश्चिम बंगाल में टीएमसी के कई बड़े नेताओं ने बगावती तेवर दिखाया है। इन नेताओं की बगावत से टीएमसी को राज्य विधानसभा चुनाव में नुकसान उठाना पड़ सकता है। दो साल पहले कद्दावर टीएमसी नेता मुकुल रॉय ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था। सूत्रों के अनुसार इन सभी बगावतों की वजह अभिषेक बनर्जी और पीके की जोड़ी ही है।

प्रधानमंत्री तक में भतीजे का नाम लेने की हिम्मत नहीं: अभिषेक बनर्जी



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *