West Bengal News:BJP नेता मनीष शुक्ला की हत्या, पिता बोले- पश्चिम बंगाल CID ​​जांच पर भरोसा नहीं

Spread the love


नई दिल्ली
पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में हुई बीजेपी के कद्दावर नेता मनीष शुक्ला की हत्या से जुड़े मामले में सीआईडी (CID) ने दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। इस पर मनीष शुक्ला के पिता ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार की ओर से शुरू की गई CID जांच में परिवार को विश्वास नहीं है। उन्होंने कहा कि सीआईडी की ओर से गिरफ्तार किए गए अपराधी हिस्ट्रीशीटर हैं और कुछ दिनों के भीतर वे रिहा कर दिए जाएंगे।

टाइम्स नाउ से एक विशेष इंटरव्यू में बीजेपी नेता मनीष शुक्ला के पिता ने कहा, ‘हमारा जीवन बर्बाद हो गया है। वह (मनीष शुक्ला) एक प्रतिभावान छात्र थे। उन्होंने बीएससी, एमएससी आईटी और उसके बाद एलएलबी किया। उन्होंने कॉलेज के बाद राजनीति की। वह बहुत लोकप्रिय थे और गरीबों के लिए मददगार भी थे। उन्होंने 120 गरीब बच्चों को शिक्षित करने का जिम्मा भी उठाया था।’

बीजेपी नेता के पिता ने की सीबीआई जांच की मांग
मनीष शुक्ला के पिता ने कहा कि हत्या के मामले में सीआईडी ने मोहम्मद खुर्रम और गुलाब शेख को गिरफ्तार किया है। उन्होंने टाइम्स नाउ को बताया कि इन लोगों का आपराधिक रिकॉर्ड है। वे गिरफ्तार हो जाते हैं और बाहर भी आ आते हैं। उन्होनें कहा कि हमने सीबीआई जांच की मांग की थी क्योंकि सीबीआई ही मामले की गहराई तक जा सकती है।

घटना को बीजेपी ने TMC का ‘राजनीतिक आतंकवाद’ बताया
उत्तरी परगना के टीटागढ़ नगर पालिका के पार्षद मनीष शुक्ला की रविवार को दो बाइक सवार हमलावरों ने कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी थी। राज्य में बीजेपी नेतृत्व ने इस हत्या के लिए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को जिम्मेदार ठहराया। राज्य बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष ने इसे टीएमसी का राजनीतिक आतंकवाद करार देते हुए हत्या की निंदा की।

राज्यपाल से मिले कैलाश विजयवर्गीय
बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से भी मुलाकात की और राज्य में राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्या की शिकायत की। दिलीप घोष ने एक ट्वीट में कहा कि बीजेपी के युवा नेता, वकील और पार्षद मनीष शुक्ला की भयानक हत्या निंदनीय है। क्या इस राज्य सरकार से किसी न्याय की उम्मीद की जा सकती है? टीएमसी के राजनीतिक आतंकवाद?”



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *